Breaking News
Home » कृषक समस्या » गोकुल महोत्सव में हर गांव में पशुओं का होगा इलाज

गोकुल महोत्सव में हर गांव में पशुओं का होगा इलाज

गोकुल महोत्सव में हर गांव में पशुओं का होगा इलाज
गोकुल महोत्सव में हर गांव में पशुओं का होगोकुल महोत्सव में हर गांव में पशुओं का होगा इलाजगा इलाज
रीवा- गोकुल महोत्सव के द्वितीय चरण की शुरूआत हो गयी है। पशुओं के स्वास्थ्य के लिये यह अभियान करीब एक माह चलेगा, जिसमें गांव-गाव जाकर ग्रामीणों-किसानों के पशुओं का उपचार किया जा रहा है।
यह जानकारी सम्भागायुक्त एस.के.पॉल की अध्यक्षता में आयोजित समय सीमा बैठक में संयुक्त संचालक पशुपालन द्वारा दी गयी। उन्होंने बताया कि पालतू एवं दुधारू पशुओं की बीमारियों के इलाज और टीकाकरण आदि के लिये हर गांव में पशुपालन एवं संबंधित विभागों के अधिकारियों, चिकित्सक एवं कर्मचारियों का दल पहुंचेगा।
सम्भागायुक्त श्री पाल ने सम्भागीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने विभाग की हर गतिविधियों के प्रति सजग रहे तथा महत्वपूर्ण गतिविधि और घटना से उन्हें तत्काल अवगत करायें।
संयुक्त संचालक कृषि ने बताया कि वन क्षेत्रों से लगे कृषकों के खेतों की फसलों को वन्य पशु नुकसान पहुंचा रहे हैं। सम्भागायुक्त ने निर्देश दिए कि वन्य पशुओं से होने वाले फसल नुकसान के लिये वन विभाग में राहत योजना है। अतः कृषि विभाग के मैदानी अधिकारी ऐसी किसी परिस्थितियों में वन विभाग से समन्वय स्थापित कर कृषकों को राहत योजनाओं के तहत राहत पहुंचायें।
अधीक्षण यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी ने बताया कि खराब हैण्डपम्पों एवं नलजल योजनाओं के मरम्मत के कार्य की गति बढ़ायी गयी है। संयुक्त संचालक सहकारिता ने गेंहू उपार्जन की तैयारियों की जानकारी दी। कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन ने बताया कि इस समय सभी नहरों से पानी प्रदाय किया जा रहा है।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा रिक्त पदों की पूर्ति के लिये की जा रही कार्रवाई से अवगत कराया गया। सम्भागायुक्त ने संयुक्त संचालक कृषि को निर्देश दिये कि केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं में निर्धारित लक्ष्य के विरूद्ध प्राप्ति से अवगत कराया जाय। उन्होंने कृषकों के लिये फसल बीमा योजना की जानकारी ली।

Check Also

रीवा: बिछिया नदी सफाई अभियान,अधिकारियों सहित आम जनता का श्रमदान

रीवा: बिछिया नदी सफाई अभियान,अधिकारियों सहित आम जनता का श्रमदान

रीवा- रीवा शहर की जीवनदायिनी बिछिया नदी की धारा अविरल बहती रही इसके लिये नदी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *